Monday, June 17, 2024

Latest Posts

KORBA नगर निगम के अधिकारियों की दरियादिली से बदसूरत होता वीआईपी एरिया और शहर…लाखों की वाल पेंटिंग, करोड़ो का फुटपाथ बेतहाशा कब्जा में

कोरबा, 03 जून । कोरबा नगर निगम के अधिकारियों की दरियादिली से बदसूरत होता वीआईपी एरिया और शहर। लाखों की वाल पेंटिंग, करोड़ो का फुटपाथ बेतहाशा कब्जा में। निगम ने दे रखी है अतिक्रमण करने और सड़क पर ठेला-खोमचा, पसरा व दुकान लगाने की छूट, पूरा कचरा सड़क किनारे और नाली नाला में ये लोग फेंक रहे हैं और आम जनता टैक्स के साथ सफाई का सरचार्ज दे देकर परेशान है फिर भी शहर गन्दा

अभियान के नाम पर सिर्फ और सिर्फ दिखावा ही हो रहा है। कुआं भट्ठा के बाद जैन चौक, बुधवारी मार्ग , घंटाघर मार्ग आखों से देखकर कब्जा करने की छूट दे दी गई है। पहले एक पसरा लगा, फिर दूसरा, और अब कई ठेले और इनका सामान सड़क तक फैलने लगा है क्योंकि कुर्सी वाले साहब को कुछ करना नहीं है। सड़क पर दुकान के कारण बीच रोड तक गाड़ियां खड़ी कर खरीदारी करने वाले हादसों को निमन्त्रण देते हैं। जैन चौक से सफेद हाथी बने fob तक तो जैसे कि कब्जादारो ने सड़क भी खरीद लिया है। न कोई कानून न व्यवस्था, सिर्फ और सिर्फ दिखावा है। ये लोग बुधवारी बाजार को पूरा गन्दा कर रखे हैं। अगर चापलूस किस्म के अधिकारियों पर भरोसा करना छोड़कर अधिकारी खुद अचानक देखने पहुंचे तो शायद उन्हें इस बात का आभास हो जाए कि मजबूरी की आड़ में किस तरह से दबंगई की जा रही है….।

निष्क्रियता प्रशासन की है जो अवैध कब्जाधारी बढ़ते जा रहे हैं और आंख भी दिखा रहे हैं। 5 से 7 लाख का पौनी पसारी तो गप शप केंद्र और नशेड़ियों का अड्डा बन गया है फिर कैसा प्रशासन जो व्यवस्था दुरुस्त नहीं कर पा रहा। तत्कालीन कलेक्टर संजीव झा अपने अधिकारियों वर्षोँ से जमे निष्क्रिय अधिकारियों को सही कहते थे कि जब मुझे यह सब दिख रहा है तो आप सबको क्यों नहीं दिखता। ऐसा लगने लगा है कि चन्द अधिकारी/अंगद का पांव बने अधिकारी व्यवस्था बनाने की नहीं बल्कि बिगाड़ने की तनख्वाह ले रहे हैं।

Latest Posts

Don't Miss